Wednesday, April 17, 2024

Paush Purnima 2024: बेणेश्वर धाम में पौष पूर्णिमा पर उमड़े श्रद्धालु, लगाई आस्था की डुबकी

जयपुर। त्रिवेणी संगम प्रयागराज में पौष पूर्णिमा पर हजारों की संख्या में भक्तों ने आस्था की डुबकी लगाई. अगर बात राजस्थान की करें तो यहां भी त्रिवेणी संगम है, जहां हमेशा हजारों की संख्या में भक्त आते हैं. पौष पूर्णिमा पर त्रिवेणी संगम में उदयपुर संभाग के वागड़ में हजारों की संख्या में लोग पहुंचे और इस पवित्र नदी में आस्था की डुबकी लगाई. इसके बाद लोग वहां पूजा-अर्चना कर देव दर्शन भी किए. बड़ी बात बता दें कि इस धार्मिक कार्यक्रम के कुछ दिन बाद ही अब यहां महाकुंभ का आयोजन होने वाला है। बताया जा रहा है कि इस वर्ष के महाकुंभ में भक्तों की भाड़ी भीड़ पहुंचने वाला है।

बड़ी संख्या में आते हैं, भक्त

हम जिस त्रिवेणी संगम की बात कर रहे हैं वह उदयपुर के डूंगरपुर जिले में स्थित है. यहां संगम सोम, माही और जाखम नदी का होता है. संगम स्थल को बेणेश्वर धाम कहते हैं. वैसे तो इस बेणेश्वर धाम में देशभर के अलग-अलग हिस्सों से भक्त पहुंचते हैं, लेकिन मध्य प्रदेश, राजस्थान, महाराष्ट्र और गुजरात के भक्त यहां बड़ी संख्या में आते हैं. यहां भक्त माव महाराज का दर्शन करते हैं. महा पदयात्रा यहां पौष पूर्णिमा पर निकलती है, लेकिन इस बार यह पदयात्रा नहीं हो पाई, क्योंकि यहां के महंत अच्युतानंद की तबियत ठीक नहीं है. इसलिए भक्त बेणेश्वर धाम गाड़ियों से पहुंचे. पांच किमी की यह यात्रा होती है, जिसमें भक्तों की संख्या अधिक होती है।

यहां लगेगा 24 फरवरी से महाकुंभ

महंत अच्युतानंद की तबियत खराब होने की जानकारी के बाद भक्त सीधे बेणेश्वर धाम पहुंचे. यहां राधा कृष्ण मंदिर में महंत अच्युतानंद ने महाआरती की. जिसके बाद सभी भक्त त्रिवेणी संगम में पहुंचे और यहां की पवित्र नदी में आस्था की डुबकी लगाई. इसके साथ ही भक्त भगवान शिव, ब्रम्हा जी, राधा-कृष्ण, वाल्मिकी समेत अन्य मंदिर के दर्शन भी किए. बता दें कि यहां अगले महीने 24 फरवरी से महाकुंभ लगने जा रहा है. अनुमान है कि इस महाकुंभ के मेले में पहले से भी अधिक भक्त आएंगे. 14 फरवरी से इसके लिए कार्यक्रम की शुरुआत की जाएगी.

Latest news
Related news